भावी योजना



भावी अभिदृष्टि
  • 2006-07 में टिहरी बांध एवं एचपीपी (1000 मेगावाट), 2011-12 में कोटेश्वर एचईपी (400 मेगावाट) और गुजरात में पवन विद्युत परियोजनाओं (पाटन में 50 मेगावाट एवं द्वारका में 63 मेगावाट) की कमीशनिंग के साथ टीएचडीसी इंडिया लिमिटेड ने 10वीं, 11वीं एवं 12वीं योजना के दौरान क्रमश: 1000 मेगावाट, 400 मेगावाट एवं 113 मेगावाट की क्षमता अभिवृद्धि में योगदान दिया है ।
  • टीएचडीसी इंडिया लिमिटेड के द्वारा निम्नलिखित परियोजनाओं की सुनियोजित कमीशनिंग के साथ विद्युत मंत्रालय के क्षमता अभिवृद्धि कार्यक्रम में 2017-2023 के दौरान 1668 मेगावाट जोड़ा जाना प्रस्तावित है :- 

1.    टिहरी पीएसपी                         -    1000 मेगावाट
2.    विष्णुगाड पीपलकोटी एचईपी     -    444 मेगावाट
3.    ढुकुवां एसएचपी                       -     24 मेगावाट
4.    सौर विद्युत परियोजनाएं           -    250 मेगावाट 
5.    खुर्जा एसटीपीपी                       -   1320 मेगावाट
                 
           योग                                   -      3038 मेगावाट  
 
  • टीएचडीसी इंडिया लिमिटेड देश के अन्य भागों एवं भूटान व नेपाल आदि में भी जल विद्युत एवं पंप स्टोरेज योजनाओं के विकास के संभावनाओं की खोज कर रही है ।
  • टीएचडीसी इंडिया लिमिटेड परंपरागत/गैर-परंपरागत और ऊर्जा के नवीकरणीय स्रोतों जैसे पवन और सौर को विकसित करने तथा जल विद्युत क्षेत्र में विशेषज्ञ परामर्शी सेवाएं उपलब्ध कराने के लिए संभावनाओं की खोज करने की योजना बना रही है ।